Diabetes

Diabetes is also called diabetes mellitus. Types of diabetes
(01) Type 1 Diabetes

(02) Type 2 Diabetes

Click Here To Join Diabetes Program

मधुमेह क्या है?|What is Diabetes?

 

diabetes
diabetes

जब कम इंसुलिन शरीर के अग्न्याशय तक पहुंचता है, तो रक्त में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाती है।

इस स्थिति को मधुमेह (Diabetes) कहा जाता है।

इंसुलिन(Insulin) हमारे शरीर में पाचन ग्रंथि द्वारा निर्मित एक हार्मोन है। (इंसुलिन एक प्रकार का हार्मोन है जिसका निर्माण अग्नाशय में होता है। )

इसका काम भोजन को ऊर्जा में बदलना है।

आसान भाषा में बात करें तो जब इंसुलिन असंतुलित हो जाए, यानी कि इंसुलिन काम करना बंद कर दे या यह अच्छी तरह से ना बन पाए

अग्न्याशय(Pancreas) इतना इंसुलिन छोड ही नहीं रहा है, तब खून में शुगर की मात्रा बढ़ जाएगी। (ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाएगी।)


Diabetes Symptoms

  •  बहुत पेशाब  आना, अक्सर रात में।
  • बहुत प्यास लगना।
  • अचानक वजन कम होने लगना
  • बहुत भूख लगना
  • थका हुआ महसूस करना
  • धुंधली दृष्टि
  • बहुत सुन्न या झुनझुनी हाथ या पैर।
  • बहुत शुष्क त्वचा।
  • चोट का घाव बहुत धीरे-धीरे से ठीक होना।
  • सामान्य से अधिक संक्रमण।

Different Types

Type 1 Diabetes

Type 1 मधुमेह, जिसे कभी किशोर मधुमेह या इंसुलिन पर निर्भर मधुमेह के रूप में जाना जाता था, एक पुरानी स्थिति है जिसमें अग्न्याशय बहुत कम या कोई इंसुलिन पैदा नहीं करता है।

इंसुलिन एक हार्मोन है जो चीनी (ग्लूकोज) को ऊर्जा पैदा करने के लिए कोशिकाओं में प्रवेश करने की अनुमति देता है।

टाइप 1 डायबिटीज़ वाले लोगों को जी मिचलाना(Nausia), उल्टी या पेट में दर्द भी हो सकता है।

Type 1 डायबिटीज़ के लक्षण कुछ ही हफ्तों या महीनों में विकसित हो सकते हैं और गंभीर भी हो सकते हैं।

टाइप 1 डायबिटीज़ आमतौर पर तब शुरू होता है जब आप किशोर या युवा वयस्क होते हैं। (किसी भी उम्र में हो सकते हैं।)


Join Diabetes Program


Type 2 Diabetes

लक्षणों को विकसित होने में अक्सर कई साल लग जाते हैं।

कुछ लोगों को बिल्कुल भी कोई लक्षण नज़र नहीं आता है।

Type 2 डायबिटीज़ आमतौर पर तब शुरू होता है जब आप वयस्क होते हैं, कठिन अधिक से अधिक बच्चे और किशोर इसे विकसित कर रहे होते हैं।

क्योंकि लक्षणों को पहचानना मुश्किल है, टाइप 2 मधुमेह के जोखिम कारकों को जानना महत्वपूर्ण है।

यदि आपके पास उनमें से कोई है तो अपने डॉक्टर से मिलना सुनिश्चित करें।


कैसे नियंत्रित करें|How to control 

  • तनाव कम लें।
  • नियमित कसरत
  • आहार मुख्य कुंजी है।
  • अस्वास्थ्यकर आहार बंद करें।
  • फास्ट फूड खाना बंद करें (बर्गर, पिज़्ज़ा, मोमोज, चौमिन इत्यादि)
  • चीनी का उपयोग खाने की सामग्री में कम करें।
  • खाना बनाने में तेल का कम से कम उपयोग करें।
  • शुद्ध सरसों का तेल इस्तेमाल करें रिफाइंड का नहीं।
  • तला-बुझा हुआ खाना बंद करें।
  • रोजाना सुबह की सैर पर जाएं।

आपको ऐसे फलों और सब्जियों को अपने आहार में शामिल करना चाहिए, जिससे आपका ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहे।

फलों में हमेशा जामुन और पपीता जरूर लें।


हमारा ब्लड शुगर लेवल क्या होना चाहिए?

आम तौर पर स्वस्थ व्यक्तियों (मधुमेह के बिना) के लिए जिन्होंने 08 घंटे या उससे अधिक समय तक नहीं खाया है, सामान्य रक्त शर्करा का स्तर 70-99mg/dl के बीच होता है।

जब आपने पिछले 02 घंटों में खाया है, तो यह 104mg/dl से अधिक नहीं होना चाहिए।


निम्न ब्लड शुगर (हाइपोग्लाइसीमिया)|Low blood sugar

Symptoms of Low Blood Sugar

  • अस्थिरता और घबराहट
  • चिंता
  • थकान
  • कमजोरी
  • पसीना आना
  • भूख
  • जी मिचलाना (Nausea)
  • भ्रम
  • बोलने में कठिनाई

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.