Famous glaciers of Himachal Pradesh

Famous glaciers of Himachal Pradesh

Details of Famous glaciers of Himachal Pradesh

हिमाचल प्रदेश में स्थित प्रसिद्ध हिमनद निम्न है

(1) बड़ा शिगड़ी हिमनद –

यह लाहौल में स्थित है, इस हिमनद से चन्द्रा नदी को पानी मिलता है

हिमाचल प्रदेश में यह सबसे बड़ा हिमनद है ,  इस हिमनंद की लम्बाई 25 कि.मी तथा चौड़ाई 3 कि.मी है

इस ग्लेशियर का नामकरण लाहौल घाटी के सुप्रसिद्ध देवता गेफेंग के नाम पर किया गया है

1873 ई. में एन्ड्रयू विल्सन ने लाहौल स्पीति को ग्लेशियर की घाटी कहा था

1869 ई. में कैप्टन हारकोट ने ग्लेशियर को पार किया

बड़ा शिगड़ी ग्लेशियर का पूरा क्षेत्र बंजर तथा बिना किसी प्राकृतिक उपज के है

1936 ई. में इस ग्लेशियर ने चन्द्रा घाटी में भारी तबाही मचाई थी , जिसके कारण चंदरताल झील का निर्माण हुआ

1956 में कुछ महिलाओ ने पर्वतारोही ने इसे पार किया था

1958 में स्टीफेन्सन और 1970 में मेजर बलजीत सिंह ने सफलतापूर्वक इस ग्लेशियर को पार किया

पार्वती ग्लेशियर

यह ग्लेशियर कुल्लू जिले में स्थित है, इसकी लम्बाई 15 कि.मी है

इस ग्लेशियर से पार्वती नदी को पानी मिलता है

Famous glaciers of Himachal Pradesh

दुधोन ग्लेशियर

यह ग्लेशियर कुल्लू जिले में स्थित है, इसकी लम्बाई 15 कि.मी है

इस ग्लेशियर से पार्वती नदी को पानी मिलता है

मुल्कीया ग्लेशियर

यह ग्लेशियर लाहौल स्पीति में स्थित है, इसकी लम्बाई 12 कि.मी है

इस ग्लेशियर से भागा नदी को जल मिलता है

मियार ग्लेशियर-

यह लाहौल स्पीति की भागा घाटी में स्थित है, इसकी लम्बाई 12 कि.मी है

ग्लेशियर से मियार नदी को जल मिलता है

व्यासकुंड ग्लेशियर

यह रोहतांग के पास स्थित है

इस ग्लेशियर से व्यास नदी को पानी मिलता है

कुल्टी ग्लेशियर

यह कोकसर के समीप चंद्र नदी के किनारे स्थित है

भादल ग्लेशियर

कांगड़ा के बड़ा भगाल के पास स्थित है, इससे भादल नदी को पानी मिलता है

गेफांग ग्लेशियर

इस ग्लेशियर का नामकरण लाहौल घाटी के सुप्रसिद्ध देवता गेफेंग के नाम पर किया गया है

Famous glaciers of Himachal Pradesh

यह ग्लेशियर “लाहौल का मणिमहेश” के नाम से प्रसिद्ध है

द लेडी ऑफ केलांग ग्लेशियर

लाहौल स्पीति में स्थित है

19वीं शताब्दी में “लेडी एश्लेनदे” ने इस ग्लेशियर को “द लेडी ऑफ केलाँग” का नाम लिया था

इस ग्लेशियर की ऊंचाई 6061 मी. है

मिलांग ग्लेशियर

यह ग्लेशियर लाहौल के दारचा और खेकराड के बीच में स्थित है

1939 में इस ग्लेशियर पर सर्वप्रथम राष्ट्रीय छात्र संघ के सदस्यों ने विजय प्राप्त की थी

पिराड़ हिमनद

यह लाहौल स्पीति के पुतिरूणी के समीप स्थित है

पिराड़ स्थानीय भाषा में अर्थ- “टूटी हुई चट्टान”,जिसकी एक सुन्दर गुफा बनी है

Famous glaciers of Himachal Pradesh-Famous glaciers of Himachal Pradesh

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.